Welcome to the new website of the right to food campaign, launched in March 2014 at the campaign’s fifth convention. This is an action-oriented website, with tons of action-oriented material on the right to food in India including primers, articles, survey reports, court orders, campaign tools and much more. If you are about to log off and surf on, think again – this is an issue that affects millions of people, and you can do something about it.

As explained in its foundation statement, the right to food campaign is an informal network of individuals and organisations committed to the realisation of the right to food in India. The campaign began in 2001, as an offshoot of public interest litigation in the Supreme Court, and quickly grew into a country-wide movement. The campaign’s shared values and organisational principles are expressed in the collective statement. For a brief account of the campaign’s activities so far, here is an introductory note.

This new website, still in progress, is maintained by the secretariat of the campaign with the help of volunteers (the "old website" is still accessible, as an archive of sorts). Please send us a line (righttofoodindia@gmail.com) if you wish to receive regular updates about the campaign’s activities, or for any other reason – we will be glad to hear from you!


facebook.com/righttofood



रोजी रोटी अधिकार अभियान की नई वेबसाइट पर आपका स्वागत है, जिसका शुभारम्भ अभियान के 5वें अधिवेशन में किया गया. यह एक  कार्यान्मुख वेबसाइट है जिस पर   भारत में भोजन के  अधिकार  पर  बड़ी  मात्रा में सामग्रियां उपलब्ध हैं जिसमें प्रवेशिका, लेख, सर्वे रिपोर्ट, न्यायालय के आदेश और अभियान से जुडी अन्य सामाग्रियां भी शामिल हैं. यदि आप लॉग-ऑफ करके आगे सर्फ़ करने वाले हैं, तो सोचिये – यह एक ऐसा मुद्दा है जो करोड़ों लोगो के अस्तित्व और भलाई को प्रभावित करता है, और आप इसके बारे में कुछ कर सकते हैं.

जैसा कि इसके आधार वक्तव्य में बताया गया है, रोजी रोटी अधिकार अभियान व्यक्तियों और संस्थाओं का एक अनौपचारिक संगठन है, जो भारत में भोजन के अधिकार की प्राप्ति के लिए प्रतिबद्ध हैं. अभियान की शुरुआत 2001 में उच्चतम न्यायालय में दायर जनहित याचिका की शाखा के रूप में हुई. और बहुत जल्द ही यह आंदोलन पुरे देश भर में फ़ैल गया. अभियान के साँझा वक्तव्य में इसके सामूहिक मूल्यों और संगठनात्मक सिद्दांतों का उल्लेख है. अभियान की अब तक की गतिविधियों का संक्षिप्त विवरण आप इस परिचयात्मक नोट में प्राप्त कर सकते हैं.

यह नयी वेबसाइट, जो अभी प्रगति में है, अभियान के सचिवालय द्वारा नियंत्रित की जाती है जिसमें वालंटियर्स का भी सहयोग है (“पुरानी वेबसाइट” भी एक संग्रह के रूप में उपयोग किया जा सकता है). यदि आप नियमित रूप से अभियान की गतिविधियों के बारे में सूचना चाहते हैं, या फिर और कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप हमें ई-मेल द्वारा righttofoodindia@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं. हमें उससे मुहैया कराने में ख़ुशी होगी.